हाइलाइट्स

श्रीसंत ने बताया कैसे धोनी ने पहचाना जोगिंदर का टैलेंट
ओएनजीसी के लिए पहले भी फेंके थे कई बार आखिरी ओवर
2007 टी20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम को मिली थी जीत

नई दिल्ली. आज ही के दिन यानि 24 सितंबर साल 2007 में भारतीय टीम ने एमएस धोनी (MS Dhoni) की अगुवाई में इतिहास रचते हुए आईसीसी पुरुष टी20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था. इस प्रतिष्ठित खिताब का गवाह जोहानिसबर्ग स्थित वॉन्डरर्स स्टेडियम बना था. फाइनल मुकाबले के आखिरी ओवर में पाक टीम को 13 रनों की दरकार थी. ग्रीन टीम के लिए अनुभवी बल्लेबाज मिस्बाह उल हक के साथ मोहम्मद आसिफ मैदान में टिके हुए थे. यहां कैप्टन धोनी ने सबको चौकाते हुए हरभजन सिंह की जगह जोगिंदर शर्मा के हाथ में गेंद थमा दी.

साल 2004 में भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने वाले जोगिंदर शर्मा 2007 टी20 वर्ल्ड कप से पहले प्लेइंग इलेवन से अंदर बाहर होते रहे. हालांकि टी20 वर्ल्ड कप से पहले घरेलू क्रिकेट में उम्दा प्रदर्शन करते हुए भारतीय टीम में वह जगह बनाने में कामयाब रहे. वर्ल्ड कप के शुरुआती मुकाबलों में उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला था. हालांकि, धोनी ने इस तुरुप के इक्के को बड़े मुकाबलों के लिए बचाकर रखा था. फाइनल मुकाबले में उन्होंने कप्तान के निर्णय को सही भी साबित किया, और टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई.

यह भी पढ़ें- VIDEO: टी20 वर्ल्ड कप से पहले पाकिस्तान के लिए आई खुशखबरी, सबसे बड़े खिलाड़ी ने वापसी की शुरू की तैयारी

टी20 वर्ल्ड कप 2007 के 15 साल बीते जाने के बाद देश के पूर्व तेज गेंदबाज एस श्रीसंथ (S. Sreesanth) ने खुलासा करते हुए बताया है कि आखिर क्यों धोनी ने जोगिंदर शर्मा को आखिरी ओवर थमाया था. स्टार स्पोर्ट्स के साथ हुए खास बातचीत के दौरान पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, ‘धोनी पहले से ही इस तरह के फैसले लेते आए हैं, और वह जोगी भाई को भलीभांति समझते थे.’

उन्होंने बताया कि, बहुत कम लोग जानते हैं कि हम इंडियन एयरलाइंस के लिए खेलते थे. यहां मैं, युवी पा, धोनी भाई, भज्जी पा, इंडियन एयरलाइंस के लिए खेलते थे. वहीं जोगिंदर शर्मा ओएनजीसी की टीम के लिए शिरकत करते थे. उन्होंने कहा, ‘धोनी भाई जोगी भाई के जुझारू रवैए को पहले से ही जानते थे. वो ये भी जानते थे कि एक या दो बार नहीं बल्कि कई बार उन्होंने आखिरी ओवर में अपनी टीम के लिए गेंदबाजी करते हुए जीत दिलाई थी. इसलिए उन्हें ओवर देते हुए धोनी भाई को पूरा भरोसा था.’

Tags: Captain Dhoni, Icc T20 world cup, Ms dhoni, S Sreesanth, T20 World Cup 2007



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.