<p style="text-align: justify;">के-पॉप सुपरग्रुप बीटीएस के नए एल्बम ‘प्रूफ’ (Proof) की रिलीज के पहले दिन 20 लाख से अधिक प्रतियां बिक गईं. मनोरंजन एजेंसी ने शनिवार को इसकी जानकारी दी है. समाचार एजेंसी योनहाप की रिपोर्ट में जानकारी दी गई कि दक्षिण कोरियाई म्यूजिक चार्ट, हंटियो चार्ट के अनुसार, शुक्रवार को बाजार में उपलब्ध होने के ठीक 10 घंटे बाद एंथोलॉजी एल्बम की रात 11 बजे तक कुल 2.15 मिलियन प्रतियां बिक चुकी थीं.</p>
<p style="text-align: justify;">2020 में अपने चौथे एल्बम, ‘मैप ऑफ द सोल: 7’ के बाद, यह दूसरी बार है जब बॉय बैंड की एल्बम की बिक्री पहले दिन 2 मिलियन से अधिक हो गई. इसका टाइटल सॉन्ग, ‘येट टू कम (द मोस्ट ब्यूटीफुल मोमेंट),’ प्रमुख ऑनलाइन संगीत सेवाओं के रीयल-टाइम चार्ट में तुरंत टॉप पर आ गया और यूट्यूब पर पोस्ट किए गए इसके म्यूजिक वीडियो को लगभग 50 मिलियन बार देखा गया.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>साफ-सुथरी कॉमेडी की अभी भी कमी है- शेखर सुमन</strong></p>
<p style="text-align: justify;">टीवी हस्ती शेखर सुमन (Shekhar Suman) आने वाले कॉमेडी शो ‘इंडियाज लाफ्टर चैंपियन’ के जजों में से एक होंगे. अभिनेता का कहना है कि टीवी साफ-सुथरा कॉमेडी शो के जरिए दर्शकों की संख्या में सुधार कर सकता है. शेखर ने 90 के दशक में टेलीविजन पर अपना करियर शुरू किया और टीवी के सुनहरे युग का आनंद लिया. उन्होंने कहा कि पिछले एक दशक में लोगों ने टीवी देखना बंद कर दिया है और घटिया सामग्री के कारण डिजिटल प्लेटफॉर्म पर स्थानांतरित हो गए हैं. शेखर ने कहा, "देखिए, समस्या प्रतिभा में नहीं, बल्कि कंटेंट में है. चूंकि डिजिटल प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया सभी के लिए सुलभ है, इसलिए देखने के पैटर्न में बदलाव आया है. कॉमेडी और हास्य के लिए चूंकि कोई सेंसरशिप नहीं है, इसलिए हम देखते हैं कि ओटीटी पर कुछ अश्लील चुटकुले भी परोसे जाते हैं, जो निश्चित रूप से अच्छा स्वाद नहीं देते. ऐसे कटेंट विषाक्त होते हैं. मुझे लगता है कि स्वच्छ कॉमेडी की अभी भी कमी है."</p>
<p style="text-align: justify;">उन्होंने आगे कहा, "हमारे शो के लिए हर शहर से प्रतिभागी आ रहे हैं, चाहे वह बिहार, पश्चिम बंगाल, कश्मीर, तमिलनाडु, आंध्र हो या महाराष्ट्र, हम भारत की विविध संस्कृति को हास्य के साथ मनाने जा रहे हैं. वह विचार शो को एक पारिवारिक दृश्य बना देगा और टीवी के समुदाय को देखने के अनुभव को वापस लाएगा. हास्य पैदा करने के लिए अपमानजनक शब्दों का उपयोग किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए एक शिक्षित, रचनात्मक दिमाग की जरूरत होती है जो एक पटकथा लिख सके और व्यंग्य, सूक्ष्म हास्य जो मजाकिया और बौद्धिक रूप से प्रेरणा दायक हो"</p>
<p style="text-align: justify;">शेखर का मानना है कि ऐसे कारण टेलीविजन के लिए एक कॉमेडी शो के लिए प्रासंगिकता बनाए रखने के लिए पर्याप्त हैं, भले ही युवाओं के लिए कंटेंट डालने के लिए डिजिटल रास्ते हों. शो ‘इंडियाज लाफ्टर चैंपियन’, जिसे अर्चना पूरन सिंह ने भी जज किया है और जिसे रोशेल राव होस्ट कर रहे हैं, सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर 11 जून से शुरू हो रहा है.</p>

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.