हाइलाइट्स

रवि बिश्नोई ने एशिया कप के डेब्यू मैच में अच्छी गेेंदबाजी की
उन्होंने 4 ओवर में 26 रन देकर 1 विकेट हासिल किया
युजवेंद्र चहल की मौजूदगी के बावजूद मुश्किल ओवर डाले

नई दिल्ली. एशिया कप में भारत को पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे मुकाबले में हार झेलनी पड़ी. इस मैच में करीब-करीब सभी भारतीय गेंदबाज महंगे साबित हुए. भुवनेश्वर कुमार ने 10, युजवेंद्र चहल ने करीब 11 और हार्दिक पंड्या ने भी प्रति ओवर 11 रन दिए. लेकिन, एक गेंदबाज, अपनी गेंदबाजी से सबको प्रभावित करने में सफल रहा. उसने महज 6.50 की इकोनॉमी रेट से 4 ओवर में 26 रन दिए और एक विकेट भी हासिल किया. अगर मैच के आखिरी ओवर में उस गेंदबाज की गेंद पर कैच नहीं छूटता तो 2 विकेट उसके नाम होते. यह गेंदबाज हैं 22 साल के लेग स्पिनर रवि बिश्नोई.

रवि के लिए यह मुकाबला इस लिहाज से अहम था कि यह उनका एशिया कप के साथ-साथ पाकिस्तान के खिलाफ डेब्यू मैच था. पडो़सी मुल्क के खिलाफ जब मुकाबला होता है, तो दबाव कितना होता है, यह बताने की जरूरत नहीं. इसके बावजूद रवि दबाव में बिखरे नहीं, बल्कि निखरे और यह बता दिया कि वो लंबी रेस के घोड़े साबित होंगे. अगर भारत सुपर-4 के मैच में पाकिस्तान को हरा देता तो रवि के लिए खुशी दोगुनी हो जाती, क्योंकि उनका आज यानी 5 सितंबर को जन्मदिन है. खैर, ऐसा तो नहीं हो पाया. लेकिन, रवि ने भारत की हार के बावजूद अपनी गेंदबाजी से सबका दिल जीत लिया.

रवि ने इसी साल टी20 डेब्यू किया है
रवि बिश्नोई ने इसी साल फरवरी में वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 डेब्यू किया था. अपने पहले ही मैच में रवि ने कमाल की गेंदबाजी की थी. उन्होंने 4 ओवर में 17 रन देकर 2 विकेट लिए थे जबकि इस मैच में युजवेंद्र चहल भी खेल रहे थे. लेकिन, उन्होंने बिश्नोई के मुकाबले 4 ओवर में 34 रन देकर सिर्फ 1 विकेट लिया था. अपने पहले ही मैच में रवि ने जिस तरह की गेंदबाजी की थी, उससे दिग्गज काफी प्रभावित दिखे थे. उन्होंने इस मैच में कायरान पोलार्ड जैसे कैरेबियाई दिग्गज को लगातार गुगली फेंककर काफी परेशान किया था. इस मैच में उनका आत्मविश्वास देखकर ही यह लग गया था कि इंटरनेशनल क्रिकेट में उनका करियर लंबा चलेगा.

पाकिस्तान के खिलाफ दबाव में अच्छी गेंदबाजी की
पाकिस्तान के खिलाफ पहला मुकाबला होने के बावजूद रवि ने जिस तरह की गेंदबाजी की. वैसा युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार और हार्दिक पंड्या जैसे अनुभवी गेंदबाज भी नहीं कर पाए. रवि को कप्तान रोहित शर्मा ने पावरप्ले में ही गेंद थमा दी थी. तब पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान बल्लेबाजी कर रहे थे. रवि भी कप्तान के भरोसे पर खरे उतरे और अपने पहले ही ओवर में पाकिस्तान के सबसे बड़े बल्लेबाज बाबर का शिकार कर दिया.

रवि की यह गेंद थोड़ी तेज थी. इसे बाबर समझ नहीं पाए और मिडविकेट की तरफ खेलने के चक्कर में हवा में शॉट मार बैठे. वहां तैनात, कप्तान रोहित शर्मा ने कोई गलती नहीं की और आसान सा कैच लपक लिया.

चहल की मौजूदगी में भी मुश्किल ओवर डाले
इस झटके से पाकिस्तानी खेमे में खलबली सी मच गई थी. हालांकि, उन्हें बीच के ओवर में बाकी गेंदबाजों का उतना अच्छा साथ नहीं मिला. यही वजह रही कि पाकिस्तान की टीम बाबर का विकेट गंवाने के बावजूद 182 रन के स्कोर का पीछा करने में सफल रही. रवि ने पहले 2 ओवर में सिर्फ 8 रन दिए. बीच के ओवर में भी रवि ने सधी हुई गेंदबाजी की.

टीम में चहल जैसे सीनियर लेग स्पिनर की मौजूदगी के बावजूद रवि ने मुश्किल ओवर फेंके. उन्होंने 18वें ओवर में महज 8 रन दिए. इसी ओवर में अर्शदीप सिंह ने रवि की गेंद पर आसिफ अली का कैच छोड़ा था. अगर वो कैच नहीं छूटता को मैच का नतीजा कुछ और हो सकता था.

अर्शदीप सिंह का पढ़ें क्रिकेट करियर, कनाडा के प्लान से लेकर खालिस्तानी साजिश तक

युजवेंद्र से कैसे अलग हैं रवि?
रवि और युजवेंद्र चहल हैं तो लेग स्पिनर. लेकिन, दोनों की गेंदबाजी काफी अलग है. चहल जहां गेंद को हवा में ज्यादा फ्लाइट देते हैं, तो वहीं, रवि तेज रफ्तार से लेग स्पिन गेंदबाजी करते हैं. ठीक वैसे ही जैसे राशिद खान गेंदबाजी करते हैं. रवि की रफ्तार ज्यादा होने के कारण कई बार बल्लेबाजों को राशिद खान की तरह ही रवि की गुगली पढ़ने में परेशानी होती है और यहीं वो विकेट ले उड़ते हैं. टी20 फॉर्मेट में इस तरह की गेंदबाजी ज्यादा काम करती है. उन्होंने सिर्फ 10 टी20 ही खेले हैं. लेकिन, 14 की स्ट्राइक रेट से 16 विकेट लिए हैं. यानी रवि हर 14वीं गेंद पर विकेट ले रहे हैं.

Asia Cup 2022: पाकिस्तान के खिलाफ भारत ने की 3 गलतियां, श्रीलंका के खिलाफ दोहराई तो हो जाएगा खेल खत्म!

रवि का सबसे बड़ा हथियार गुगली है. लेकिन, इसको और असरदार बनाने के लिए वो चहल की तुलना में अलग-अलग लेंथ और स्पीड से इस गेंद का इस्तेमाल करते हैं. इसी वजह से रवि की गुगली को पकड़ना बल्लेबाजों के लिए थोड़ा मुश्किल होता है.

इस साल उनका प्रदर्शन टी20 में अच्छा रहा है. आईपीएल के पिछले 3 सीजन में रवि ने अच्छी गेंदबाजी की. उन्होंने 37 मैच में 37 विकेट लिए. अगर भारतीय टीम मैनेजमेंट ने इसी तरह रवि को लगातार मौके दिए और उनपर भरोसा जताया तो वो भविष्य में टीम इंडिया के काफी काम आ सकते हैं.

Tags: Asia cup, India Vs Pakistan, Ravi Bishnoi, Yuzvendra Chahal

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.