कोलकाता/एरॉन रॉय बर्मन. झूलन गोस्वामी ने दो दशक तक चले अपने लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर को लंदन के लॉर्ड्स मैदान पर 24 सितंबर को अलविदा कह दिया. झूलन गोस्वामी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेकर सोमवार को इंग्लैंड से कोलकाता एयरपोर्ट पर उतरीं. जहां क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (सीएबी) के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया उनके स्वागत के लिए एयरपोर्ट पर मौजूद थे. झूलन ‘दीदी’ के स्वागत में कई युवा क्रिकेटर भी वहां मौजूद रहे. एयरपोर्ट के बाहर ‘चकदा एक्सप्रेस’ का स्वागत फूल-मालाओं से किया गया. झूलन ने अपने शुरुआती दिनों को याद करते हुए कहा कि हर मैच महत्वपूर्ण होता है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अब वह सड़कों पर फुचका (पानी पूरी, गोलगप्पा) खा सकती हैं और सुबह देर से उठ भी सकती हैं.

उन्होंने कहा, ‘2017 का वनडे विश्व कप फाइनल मेरे दिल के सबसे करीब है. फिर जिस दिन मैंने भारत की जर्सी में पदार्पण किया, मैंने पहली बार टोपी लगाई, मैदान पर कदम रखा. और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का आखिरी मैच. वो तीन मैच मेरे लिए हमेशा खास रहेंगे. इसमें कई मैच, टेस्ट मैच, ऐसे मैच हैं जिनका प्रसारण भी नहीं हुआ. हर मैच का अपना महत्व होता है. एक टीम के तौर पर हमने 2005 में 5-0 से सीरीज जीती थी. 2022 में मैंने इंग्लैंड में 3-0 से जीत दर्ज की. इसलिए मैं खुद को बहुत भाग्यशाली महसूस करती हूं.’

टी20 करियर खत्म करने के लिए धोनी को ठहराया दोषी, तो इरफान पठान ने दिया दिल छूने वाला जवाब

झूलन ने लॉर्ड्स में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के आखिरी मैच में भी दो विकेट लिए थे. जो उनके लिए विशेष रूप से यादगार रहेगा. झूलन ने कहा, ‘मैं भारतीय टीम के लिए पहला विकेट और ऐसा आखिरी विकेट कभी नहीं भूल सकती. ‘चकदा एक्सप्रेस’ ने अपने करियर के 19 से अधिक वर्षों में न केवल विकेट लिए, बल्कि कई दोस्त भी बनाए. उन्होंने कहा, ‘ऐसा लग रहा है कि दबाव से राहत मिल गई है. लेकिन मुझे बुरा लगता है कि अब मैं भारतीय ड्रेसिंग रूम में वापस नहीं जा सकती. मैं सभी के साथ इतनी एकजुट थी कि मुझे उन्हें छोड़ना बुरा लगा.’

VIDEO: मोहम्मद रिजवान ने ऑटोग्राफ देते हुए पैर से उठाया पाकिस्तानी झंडा, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

पेशेवर क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद अब झूलन गोस्वामी अपने जीवन के नए चरण का आनंद लेने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. उन्होंने कहा, ‘एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर होने के नाते मुझे लंबे समय तक डाइट पर रहना पड़ता है, लेकिन अब कोई पाबंदी नहीं है. फुचका या स्वादिष्ट बिरयानी के लिए सड़क पर खड़े होने में अब कोई परेशानी नहीं है. मैं सुबह देर से उठ सकती हूं.’ उन्होंने कहा कि यह आगे का रास्ता एक नए जीवन की तरह है और वह इसके हर पल का आनंद लेना चाहती हैं.

Tags: Jhulan Goswami, Off The Field, West bengal

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.