लंदन. अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने शनिवार को लॉर्ड्स के मैदान पर अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेला और इसके साथ ही किकेट के एक युग का अंत हो गया. इंग्लैंड के खिलाफ ही चेन्नई में छह जनवरी 2002 को जीत के साथ अंतरराष्ट्रीय पदार्पण करने वाली झूलन के लिए यह सीरीज यादगार रही. करीब दो दशकों तक भारतीय महिला क्रिकेट के लिए अपना योगदान देने वाली गोस्वामी को कई लोगों ने अपने अंदाज में बधाई दी. इसी मौके पर भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने भी उन्हें याद किया.

कप्तान हरमनप्रीत कौर ने झूलन गोस्वामी की विशेष तारीफ की और यह भी खुलासा किया कि महान क्रिकेटर ने उनके कठिन समय के दौरान उनका साथ दिया था. उन्होंने कहा, ‘जब मैंने पदार्पण किया, तो वह एक बड़ी खिलाड़ी थीं. खेल से पहले मैंने उनसे कहा था कि जब भी मैं अपने सर्वश्रेष्ठ समय से गुजर रही होती हूं तो कई लोगों ने मेरा समर्थन किया है. लेकिन मेरे कठिन समय में वही इकलौती थीं, जिन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया.’

VIDEO: दीप्ति शर्मा के रन आउट को लेकर कप्तान हरमनप्रीत कौर ने क्या कहा

भारतीय कप्तान ने आगे कहा, ‘मैं बस उन्हें धन्यवाद देना चाहती हूं. वह हमेशा हमारे लिए रहेंगी. वह बस एक कॉल दूर हैं. हम वास्तव में आभारी हैं कि हमें उसके साथ खेलने का मौका मिला. वह मेरे लिए बेहद खास इंसान हैं. मैच में कम समय के दौरान मैं हमेशा चर्चा करती थी कि क्या करना है और वह हमेशा मेरा मार्गदर्शन करती थीं.’

मुकाबले की बात करें, तो ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा और सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना के अर्धशतक के बाद रेणुका सिंह की अगुवाई में गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन से भारत ने शनिवार को यहां कम स्कोर वाले रोमांचक तीसरे और अंतिम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में इंग्लैंड को 16 रन से हराकर पहली बार मेजबान टीम का उसकी सरजमीं पर सूपड़ा साफ किया.

Tags: Harmanpreet kaur, Jhulan Goswami

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.